कांग्रेस पर फूटा योगेंद्र यादव का गुस्सा, बोले- ऐसी पार्टी को खत्म ही हो जाना चाहिए

Politics

2019 लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) के एग्जिट पोल के नतीजों में जिस तरह से एनडीए को भारी जीत मिलती दिखाई दे रही है, उसे देखते हुए ‘स्वराज’ इंडिया के प्रमुख योगेंद्र यादव ने मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के खिलाफ बेहद ही तल्ख टिप्पणी की है। योगेंद्र यादव ने कहा कि कांग्रेस पार्टी को अब खत्म कर देना चाहिए। यादव ने कहा, “कांग्रेस को अब खत्म कर देना चाहिए। इस चुनाव में अगर कांग्रेस भारतीय जनता पार्टी (BJP) को रोकने में असमर्थ सिद्ध होती है, तो इसका मतलब है कि उसका भारतीय इतिहास में कोई भी सकारात्मक योगदान नहीं है।” रविवार को इंडिया टुडे के साथ एग्जिट पोल पर अपनी बातचीत में योगेंद्र यादव ने कहा, “आज की तारीख में यह (कांग्रेस) विकल्प देने के मार्ग में सबसे बड़ी एक मात्र बाधा है।”

योगेंद्र यादव आम आदमी पार्टी (AAP) के फाउंडिंग मेंबर में से एक रहे हैं और वह केंद्र में कांग्रेस के रहते महागठबंधन की भूमिका पर संदेह करते रहे हैं। कई बार वह विपक्षी राजनीतिक दलों की टॉप लीडरशिप की कठोर शब्दों में आलोचना भी करते रहे हैं और इन्हें समान रूप से गैर-लोकतांत्रिक और भ्रष्ट करार देते रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि देश को बिना कांग्रेस के एक मजबूत विकल्प की जरूरत है। गौरतलब है कि अलग-अलग एग्जिट पोल को मिलाकर किए गए पोल में भी बीजेपी की नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन को 542 सीटों में 302 सीटें हासिल हो रही हैं।

हालांकि, अपने एक ट्वीट में योगेंद्र यादव ने कांग्रेस की ‘ऐतिहासिक प्रासंगिकता’ को चुनौती देने वाले बयान पर सफाई दी। उन्होंने कहा, “मेरे कथन ‘भारतीय इतिहास में कोई सकारात्मक भूमिका’ को लेकर कनफ्यूजन की स्थिति बन गई है। मैं निश्चित रूप से आजादी के पहले कांग्रेस और उसके बाद की महान भूमिका को खारिज नहीं कर सकता। मेरा तात्पर्य था कि उसका (कांग्रेस) का इतिहास को लेकर अब कोई सरकारात्मक भूमिका नहीं रह गई है। मैं इस बयान पर कायम हूं।”

एनडीटीवी के मुताबिक योगेंद्र यादव के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस की प्रवक्ता खुशबू सुंदर ने ट्वीट किया, “मैं कांग्रेस हूं। मैं भारत हूं। आप जैसों के ऐसी ख्वाहिश रखने से मैं नहीं मरने वाली। आपसे बेहद निराश हूं योगेंद्र यादव जी। दुष्टों को रोकने का कर्तव्य सिर्फ कांग्रेस के ही कंधे पर क्यों है? इसके लिए सभी ताकतों को एक साथ आना होगा। याद रहे कि ध्वस्त करने की अपेक्षा सृजन में अधिक समय लगता है।”

Leave a Reply